SHARE

काश! मेरा मन
सरकंडे की कलम- सा होता
जिसे छील-छाल कर,
बना कर
भावना की स्याही में डुबाकर
मैं लिखता
कुछ चिकने अक्षर –
मोतियों-से,
प्रेम के।

4 COMMENTS

  1. इतने कम शब्दों में इतनी गहरी बात, नयी तरह की सोच नयी तरह की कविता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here