SHARE

whisperingहम सबके
अपने-अपने
अलग-अलग ईश्वर
कानाफूसी किया करते हैं।

क्या संसार के 
हम सभी लोगों को
चुप नहीं हो जाना चाहिये-
जैसा ’इमरसन’ कहता है-
कि हम ईश्वर की
कानाफूसियाँ सुन सकें!

15 COMMENTS

  1. सब चुप हो जायेंगे तो ईश्वर के पास कानाफूसी के लिए मैटर कहाँ से आयेगा??

  2. हम सबके

    “अपने-अपने

    अलग-अलग ईश्वर

    कानाफूसी किया करते हैं ।”
    अजब बात है !

  3. लेकिन हम इन कनफ़ुसियों को सुन कर भी अनसुना कर रहे है, बस अपनी बात भजनो मे शोर मचा कर अपने अपने ढंग से उसे सुना रहे है. अब ईशबर भी क्या करे,
    धन्यवाद इस सुंदर ओर सच्ची कवि्ता के लिये

    आपको और आपके परिवार को होली की रंग-बिरंगी भीगी भीगी बधाई।
    बुरा न मानो होली है। होली है जी होली है

  4. हम चुप हो जाये तो वो किसके बारे में कानाफूसी करेंगे!
    हमारे बारे में ही तो वो बात करते है.!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here