सच्चा शरणम्
All rights are reserved @ramyantar.com.

जार्ज हरबर्ट की कविता Virtue का अनुवाद

Virtue: George Herbert

SWEET day, so cool, so calm, so bright!
The bridal of the earth and sky–
The dew shall weep thy fall to-night;
For thou must die.

Sweet rose, whose hue angry and brave
Bids the rash gazer wipe his eye,
Thy root is ever in its grave,

And thou must die.

Sweet spring, full of sweet days and roses,
A box where sweets compacted lie,
My music shows ye have your closes,
And all must die.

Only a sweet and virtuous soul,
Like season’d timber, never gives;
But though the whole world turn to coal,
Then chiefly lives.

Hindi Translation

George Herbertअहह मधुर अति सौम्य शांत ज्योतिर्मय वासर!
एकतान कर रहे रूपमय अवनी अम्बर
किंतु जोहती पतन तुम्हारा रजनी क्षणक्षण
मर जाओगे, विलख उठेंगे ढुलक अश्रुकण

राग रंगमय मधुर गुलाब सुमन चटकीले
चकाचौंध कर देते दर्शकलोचन गीले
किंतु सतत भूतल में तेरी जड़ें गड़ी हैं
सर पर तुम्हें निगल जाने को मृत्यु खड़ी है

सरस गुलाबसुमन दिन थाती ले रसवंती
अहह मधुरतम मनोहारिणी ऋतुवासन्ती।
री! रसाल, मेरे गीतों ने यह जाना है
ऋतुमधुकोषपीठ ! तुमको भी मर जाना है

मात्र गुणमयी मधुर आत्मा का ही सरगम
होता कभीं विनष्ट सदाबहार काष्ठ सम।
जलकर राख अखिल जग जिस दिन हो जाता है
उस दिन भी गुणमय जीवन जीतागाता है

1 comment

  1. दिपावली की शूभकामनाऎं!!

    शूभ दिपावली!!

    – कुन्नू सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *