Tuesday, February 21, 2017

आलेख

कवितायें

तुम ही पास नहीं हो तो..

Jyoti (Photo credit: soul-nectar) तुम ही पास नहीं हो तो इस जीवन का होना क्या है? मेरे मन ने खूब सजाये दीप तुम्हारी प्रेम-ज्योति के हुआ प्रकाशित...

अब तुम कहाँ हो मेरे वृक्ष ?

छत पर झुक आयी तुम्हारी डालियों के बीच देखता कितने स्वप्न कितनी कोमल कल्पनाएँ तुम्हारे वातायनों से मुझ पर आकृष्ट हुआ करतीं, कितनी बार हुई थी वृष्टि और मैं...

Weather

Sakaldiha,in
clear sky
20.2 ° C
20.2 °
20.2 °
70%
1.3kmh
0%
Tue
27 °
Wed
24 °
Thu
22 °
Fri
23 °
Sat
22 °

उल्लेखनीय प्रविष्टियाँ

जब हो जाये दिवसान्त शान्त (गीतांजलि का भावानुवाद )

If the day is done, if birds sing no more, if the wind has flagged tired, then draw the veil of darkness thick upon me, even as thou...

अथ-इति दोनों एक हो गए

A Close Capture of Hand-written Love-Letters स्नातक कक्षा में पढ़ते हुए कई किस्म के प्रेम पत्र पढ़े। केवल अपने ही नहीं, दूसरों के भी। अपनी...

प्रिय तेरे इस विशद कक्ष में संस्थित कोना एक हमारा (...

I am here to sing thee songs. In this hallof thine I have a corner seat.In thy world I have no work to do...

सौन्दर्य लहरी-6

’सौन्दर्य-लहरी’ संस्कृत के स्तोत्र-साहित्य का गौरव-ग्रंथ व अनुपम काव्योपलब्धि है । आचार्य शंकर की चमत्कृत करने वाली मेधा का दूसरा आयाम है यह काव्य...

बीतल जात सवनवाँ ना …(कजरी – 1)

सावन आया । आकर जा भी रहा है । मैंने कजरी नहीं सुनी, न गायी । वह रिमझिम बारिश ही नहीं हुई जो ललचाती...

फाग-छंद ( संकलित ) – 2

बिहारी  फाग-रंग चढ़ गया है इन दिनों सब पर ! नदा कर चुप बैठा हूँ, ये ओरहन सुनना ठीक नहीं । अपना कौन-सा रंग...

शैलबाला शतक – ६

शैलबाला शतक भगवती पराम्बा के चरणों में वाक् पुष्पोपहार है। यह स्वतः के प्रयास का प्रतिफलन हो ऐसा कहना अपराध ही होगा। उन्होंने...

शैलबाला शतक – ५

प्रस्तुत हैं चार और कवित्त!  करुणामयी जगत जननी के चरणों में प्रणत निवेदन हैं शैलबाला शतक के यह चार प्रस्तुत कवित्त! शतक में शुरुआत...

रम्य रचनायें

मस्ती की लुकाठी लेकर चल रहा हूँ

A leaf  (Photo credit: soul-nectar) मैं यह सोचता हूँ बार-बार की क्यों मैं किसी जीवन-दर्शन की बैसाखी लेकर रोज घटते जाते अपने समय को शाश्वत...

कर स्वयं हर गीत का शृंगार

दूसरों के अनुभव जान लेना भी व्यक्ति के लिये अनुभव है। कल एक अनुभवी आप्त पुरुष से चर्चा चली। सामने रामावतार त्यागी का एक...

मैं क्या हूँ? जानना इतना आसान भी तो नहीं

अपनी कस्बाई संस्कृति में हर शाम बिजली न आने तक छत पर लेटता हूँ। अपने इस लघु जीवन की एकरस-चर्या में आकाश देख ही...

नई प्रविष्टियाँ

गीतांजलि

मैंने सोचा मेरी यात्रा का हुआ अंत – गीतांजलि का हिन्दी काव्य रूपांतर

प्रस्तुत है गुरुदेव रवीन्द्र की पुस्तक गीतांजलि के गीत I thought that my voyage had come to its end का हिन्दी भावानुवाद। Geetanjali: Tagore I thought...

मेरे प्यारे मज़दूर – कविता

मैं जानता हूँ तुम्हारे भीतर कोई ’क्रान्ति’ नहीं पनपती पर बीज बोना तुम्हारा स्वभाव है। हाथ में कोई 'मशाल' नहीं है तुम्हारे पर तुम्हारे श्रम-ज्वाल से भासित है हर दिशा। मेरे...

सौन्दर्य लहरी – 21

स्वदेहोद्भूताभिर्घृणिभिरणिमाद्याभिरभितो, निषेवे नित्ये त्वामहमिति सदा भावयति यः। किमाश्चर्यं तस्य त्रिनयनसमृद्धिं तृणयतो, महासंवर्ताग्निविरचयति नीराजनविधिं ॥95॥ स्वशरीरोद्भूत किरणसमूह अणिमादिक सुसेवित जो स्वरूप त्वदीय नित करता निषेवित अहं भावित कौन सा आश्चर्य शंभुसमृद्धि वह साधकशिरोमणि तृणसदृश गिनता प्रलय का प्रज्ज्वलित पावक...