SHARE
Spirituality
दूसरों के अनुभव जान लेना भी व्यक्ति के लिये अनुभव है। कल एक अनुभवी आप्त पुरुष से चर्चा चली। सामने रामावतार त्यागी का एक गीत था। प्रश्न था- वास्तविकता है क्या?
“वस्तुतः, तत्वतः, यथार्थः अपने को जान लेना ही अध्यात्म है, और यही वास्तविकता है,” उसने गम्भीर स्वर में मुझे प्रबोध दिया।
बात ही बात में बात और बढ़ती गयी। उधर से एक बात कलेजे में घुस गयी और एक बात सहजता से समझा दी गयी –
“सर्व-सर्वत्र जागरण’। होश सम्हालो।सब की सहज स्वीकृति ईश्वर के प्रसाद के रूप में सिर माथे लगाओ। बैठो नहीं, बढ़ो तो।

“रोक सका संकल्पबली को कौन आज तक बोल / अमृत सुत! सोच दृगंचल खोल।”

वस्तुस्थिति को तह पर तह सजा कर रखता गया वह। बोला, “लम्बे होते नारियल के पेड़ों को छाया की अनुपयोगिता में नहीं, आकाशभेदक साहस के सौन्दर्य में समझना होता है। आकाश बुलाया नहीं जाता बाहों में भरने के लिये । सिर्फ़ बाहें फ़ैलानी काफ़ी होती हैं। वह उनमें भरा होता है।”

“चाँदी की उर्वशी न कर दे युग के तप-संयम को खंडित
भर कर आग अंक में मुझको सारी रात जागना होगा।”

“इसलिये तेरे सूने आंगन में दुख़ भी मेहमान बन कर आये तो उसे ईश्वर से कम मत समझना। अपने किसी भी आंसू को व्यर्थ मत मानना। समुद्र उसको माँगने पता नहीं कब तेरे दरवाजे आ जाय।”

तब से बार-बार इन पंक्तियों का फ़ेरा मेरे स्मृति-पटल पर हो रहा है-

“पास प्यासे के कुँआ आता नहीं है
यह कहावत है, अमर वाणी नहीं है,
और जिसके पास देने को न कुछ भी
एक भी ऐसा यहाँ प्राणी नहीं है।
कर स्वयं हर गीत का शृंगार
जाने देवता को कौन-सा भा जाय।” ——’रामावतार त्यागी’

7 COMMENTS

  1. पास प्यासे के कुँआ आता नहीं है
    यह कहावत है, अमर वाणी नहीं है,
    और जिसके पास देने को न कुछ भी
    एक भी ऐसा यहाँ प्राणी नहीं है।

    -वाकई मनन योग्य बातें.

  2. बहुत सुन्दर,


    बस इतना कहूँगा शृंगार शुद्ध है, इसका ही प्रयोग करें! जिस तरह विश्व में आधा श, उसी तरह शृंगार में भी श पूरा नहीं आधा ही होता है उस पर ऋ की मात्रा है।

  3. प्रिय हिमाशूं,

    “दूसरों के अनुभव जान लेना भी व्यक्ति के लिये अनुभव है।”

    वाकई में सही कह रहे हो. मानव जीवन अपने आप में इतना व्यापक है कि कोई भी व्यक्ति, शतायुषी भी, इस जीवन को सिर्फ इसका सिर्फ एक कोना भर देख पाता है. अत: उसके आगे देखने के लिये दूसरों के अनुभव जानना जरूरी है.

    सस्नेह — शास्त्री

    — हर वैचारिक क्राति की नीव है लेखन, विचारों का आदानप्रदान, एवं सोचने के लिये प्रोत्साहन. हिन्दीजगत में एक सकारात्मक वैचारिक क्राति की जरूरत है.

    महज 10 साल में हिन्दी चिट्ठे यह कार्य कर सकते हैं. अत: नियमित रूप से लिखते रहें, एवं टिपिया कर साथियों को प्रोत्साहित करते रहें. (सारथी: http://www.Sarathi.info)

  4. “इसलिये तेरे सूने आंगन में दुख़ भी मेहमान बन कर आये तो उसे ईश्वर से कम मत समझना । अपने किसी भी आंसू को व्यर्थ मत मानना। समुद्र उसको माँगने पता नहीं कब तेरे दरवाजे आ जाय ।”

    अच्छा है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here