वैवाहिक सप्तपदी: कन्या-वचन देवनि देवि अनेकन पूजि कियो जग जीवन पुण्य घना। निज अर्चन वंदन पुण्य-प्रताप ते पायौ तुम्हें अब हौं सजना। तुम सौम्य सदा रहना जो गृहस्थ को जीवन हौ दुख-सुक्ख सना। तब बाम तुम्हारे बिराजुंगी मैं, सजना हमरी…