Archive पृष्ठ के द्वारा इस ब्लॉग पर प्रकाशित विभिन्न श्रेणियों (Category) के अन्तर्गत वर्गीकृत प्रविष्टियाँ (Category-wise-posts) व्यवस्थित रूप से सूचीबद्ध हैं। प्रसंशित प्रविष्टियों को प्रदर्शित करते हुए नवीनतम 5 प्रविष्टियाँ भी साथ ही दिखायी गयी हैं।

प्रविष्टियों की सूची के अतिरिक्त सभी श्रेणियाँ (Categories) एवं सभी शीर्षक (Tags, Labels) भी प्रदर्शित हैं। इन्हें अपनी सुविधानुसार स्क्रॉल करके देखा जा सकता है। साथ ही प्रारम्भ से लेकर अबतक की प्रविष्टयों को देखने के लिए महीनों के लिंक भी बनाये गये हैं। इस ब्लॉग का सबकुछ यहाँ विविध भाँति प्रस्तुत है, अपनी सुविधानुसार पढ़ने के लिए क्लिक करें।


Fresh Arrival

  • प्रेम प्रलाप

    प्रेम प्रलाप

    मेरे प्रिय! हर घड़ी अकेला होना शायद बेहतर विकल्प है तुम्हारी दृष्टि में। मैं वह विकल्प नहीं बन सका जो  बनना चाहता था। मुझे मेरी अतिशय भावनाओं ने मारा, मेरे सारे बेहतर काम दब गये मेरी भावनाओं के प्रकटीकरण में।… >>

The Last 15

Have a look on Intro.


By Tags

commenting (6) corona (5) covid-19 (5) Devotional (5) Environment (11) extra (7) Hindi Literary Figures (12) Hindi Literary Works (5) Laughter (7) love (9) Love Letter (8) mario vargas llosa (7) nobel prize (7) poem (28) prasangvash (9) short poem (9) trees (9) Verse (34) Verse Free (42) Vriksha Dohad (8) What I feel (6) women (8) कविता (59) कवित्त (14) काली (13) देवी स्तुति (13) नाट्य (35) प्रेम (5) फागुन (7) बाबूजी (6) भोजपुरी साहित्य (13) रचनाकार (6) लोक (6) शंकराचार्य (23) सत्यवान (6) सवैया (13) सावित्री (6) सौन्दर्य लहरी (22) स्तोत्र (34) स्तोत्र (9) स्वयंवर (6) हरिश्चन्द्र (9) हिन्दी काव्यानुवाद (21) होली (6) ग़ज़ल (7)

Tweetable

‘आशावाद परो भव’। अंधेरे में फ़ंस कर कीमती जिन्दगी को बर्बाद करना बड़ी मूर्खता है। अँधेरा एक रात का मेहमान होता है। फ़िर चमकता सवेरा हाजिर हो जाता है। पतझर के बाद बसंत आता ही है। इसलिये बसंत के पाँवों की आहट जरूर सुननी चाहिये। हमारा अधैर्य हमारी परेशानी है। निराशा का कुहासा फ़टेगा। सूर्य पीछे ही तो बैठा है।