Monthly Archives

October 2014

Ramyantar, नाटक

बतावत आपन नाम सुदामा (नाट्य) – तीन

पिछली प्रविष्टियों  ’बतावत आपन नाम सुदामा – एक और दो से आगे – (प्रहरी राजमहल में प्रवेश करता है। प्रभु मखमली सेज पर शांत मुद्रा में लेटे हैं। रुक्मिणी पैर सहला रही हैं। समीप में विविध भोग सामग्री सजी पड़ी…