Tag

कथा-प्रसंग

Ramyantar

ब्राह्मणत्व

ऋग्वेद के दसवें मण्डल के मंत्रों (सूक्त ३०-३४) का रचयिता कवष ऐलुष को माना जाता है। कवष ऐलुष जन्मना शूद्र थे, दासी माँ के बेटे, परन्तु अपनी प्रखर मेधा, अतुल अध्ययन एवं अनुकरणीय आचरण के कारण उन्हें आचार्यत्व प्राप्त हुआ।…

Ramyantar, कहानी, सौन्दर्य-लहरी

कथा प्रसंग: जब शंकर के हृदय से सौन्दर्य लहरी फूट पड़ी

आचार्य शंकर की दिग्विजय का एक मर्मस्पर्शी प्रसंग दृश्य प्रथम प्रत्यक्ष के लिए प्रमाण चाहते हो संन्यासी?” तांत्रिक अभिनव शास्त्री का क्रुद्ध स्वर शास्त्रार्थ सभा में गूँजा, तो उपस्थित पंडित वर्ग में छूट रही हल्की वार्ता की फुहारें भी शांत…