Category

Ramyantar

Ramyantar, Stories

प्रेम के चिह्न

इस कहानी ने भीतर तक प्रभावित किया मुझे, बहुत कुछ बदल भी दिया इसने मेरे जीवन में- जीवन शैली ही नहीं विचार भी बदले, और भाव/भावना का तो रुपांतरण ही हो गया । कहानी आपके सम्मुख है । एक संध्या…

Hindi Blogging, Ramyantar

हिन्दी ब्लॉग-लेखन : टिप्पणीकारी : कहता ही जा रहा हूँ

टिप्पणीकारी केन्द्रित अपने पूर्ववर्ती आलेखों में मैं यह समझने का प्रयास करता रहा कि टिप्पणीकारी का अपना एक निजी सौन्दर्यशास्त्र निर्मित हो, जिससे वह चिट्ठाकारी के विभिन्न उद्देश्यों को समुचित ढंग से पूर्ण करने में सहायक सिद्ध हो और अभिव्यक्ति…

Poetry, Ramyantar

पिता मैं बहुत थोड़ा हूँ तुम्हारा

माँ केन्द्रित दूसरी कविता पोस्ट कर रहा हूँ। इस कविता का शीर्षक और इसके कवि का नाम मुझे नहीं मालूम, यदि आप जानते हों तो कृपया यहाँ टिप्पणी में वह नाम जरूर लिखें। पिता मैं बहुत थोड़ा हूँ तुम्हारा और…

Poetry, Ramyantar

माँ: नौ कवितायें

कुछ दिनों पहले चिट्ठा चर्चा में कविता जी ने ’माँ’ पर लिखी कविताओं की भावपूर्ण चर्चा की थी। तब से ही मन में इसी प्रकार की कुछ कविताओं की पंक्तियाँ बार-बार स्मरण में आ रहीं थीं। बहुत याद करने पर,…

Hindi Ghazal, Ramyantar, Songs and Ghazals

सम्हलो कि चूक पहली इस बार हो न जाये(गज़ल)

सम्हलो कि चूक पहली इस बार हो न जाये सब जीत ही तुम्हारी कहीं हार हो न जाये। हर पग सम्हल के रखना बाहर हवा विषैली नाजुक है बुद्धि तेरी बीमार हो न जाये। अनुकूल कौन-सा तुम मौका तलाशते हो…

Ramyantar

उसने चिट्टी इस प्रकार लिखी

आज कुछ और नहीं, मेरे मित्र का मेरी ऑर्कुट स्क्रैपबुक में लिखा स्क्रैप पोस्ट कर रहा हूँ । एक गांव में एक स्त्री थी । उसके पती आई आई टी मे कार्यरत थे । वह अपने पति को पत्र लिखना…

Hindi Ghazal, Ramyantar, Songs and Ghazals

जी दुखी अपना यह खंडहर देखकर

कोई भाया न घर तेरा घर देखकर जी दुखी अपना यह खंडहर देखकर। आ गिरा हूँ तुम्हारी सुखद गोद में चिलचिलाती हुई दोपहर देखकर। साँस में घुस के तुमने पुकारा हमेंहम तो ठिठके थे लम्बा सफर देखकर। अब किसी द्वार…

Ramyantar

उषा की ऋचाएँ

उदात्त नारी की तरह उषा प्रत्येक वस्तु को सहलाती सँवारती आती है। सकल चराचर जीवन को जगाती हुई, वह प्रत्येक पदचारी प्राणी को गतिमान करती है, और पक्षियों में उड़ान भरती है। आदि दिन को वह जानती है और अन्धकार…