Tag

सुदामा चरित्र

नाटक, सुदामा

बतावत आपन नाम सुदामा: तीन

कृष्ण सुदामा का मिलन

इस प्रविष्टि में कृष्ण सुदामा का मिलन है, भाव की अजस्र धारा है। पिछली प्रविष्टियों  ’बतावत आपन नाम सुदामा – एक और दो से आगे। कृष्ण सुदामा का मिलन (प्रहरी राजमहल में प्रवेश करता है। प्रभु मखमली सेज पर शांत…

नाटक, सुदामा

बतावत आपन नाम सुदामा: दो

पिछली प्रविष्टि बतावत आपन नाम सुदामा: एक से आगे। इस प्रविष्टि में द्वारिकापुरी में सुदामा की उपस्थिति एवं सखा कृष्ण का औत्सुक्य, फिर मिलन-संदेश के उपक्रम में संवादों की प्रभावान्विता दर्शनीय है। दृश्य द्वितीय: द्वारिकापुरी में सुदामा (द्वारिकापुरी का दृश्य।…

नाटक, सुदामा

बतावत आपन नाम सुदामा: एक

दृश्य प्रथम: सुदामा की कुटिया (सुदामा की जीर्ण-शीर्ण कुटिया। सर्वत्र दरिद्रता का अखण्ड साम्राज्य। भग्न शयन शैय्या। बिखरे भाण्ड, मलिन वस्त्रोपवस्त्रम। एक कोने विष्णु का देवविग्रह। कुश का आसन। धरती पर समर्पित अक्षत-फूल। तुरन्त देवार्चन से उठे सुदामा भजन गुनगुना…