Tag

वनपर्व

Ramyantar, आख्यान, नाटक, नाट्य

नल दमयंती -4

पहली, दूसरी एवं तीसरी कड़ी से आगे… पंचम दृश्य  (दमयंती स्वयंवर का महोत्सव। नृत्य गीतादि चल रहे हैं। राजा महाराजा पधार रहे हैं। सब अपने अपने निवास स्थान पर यथास्थान विराजित होते हैं। सुन्दरी दमयंती अपनी अंगकांति से राजाओं के मन और…

Ramyantar, आख्यान, नाटक, नाट्य

नल दमयंती -3

पहली एवं दूसरी कड़ी से आगे… नल: (उसकी बाहें पकड़कर सम्हालते हुए तथा आँसू पोंछते हुए) सुकुमारी! रोना अशुभ है, अतः मत रोओ। यदि मेरे अपराध के कारण तुम रो रही हो तो उस अपराध के लिए राजा नल हाथ जोड़कर क्षमा माँगता…

Ramyantar, आख्यान, नाटक, नाट्य

नल-दमयंती-2

पहली कड़ी से आगे… तृतीय दृश्य   (रनिवास का दृश्य। नल चकित होकर रनिवास देखता है। दमयंती का प्रवेश।) दमयंती: हे वीराग्रणी! आप देखने में परम मनोहर और निर्दोष जान पड़ते हैं। पहले अपना परिचय तो बतायें! आप यहाँ किस उद्देश्य…

Ramyantar, आख्यान, नाटक, नाट्य

नल-दमयंती

अरविन्द जी ने शिल्पा मेहता जी के एक विशिष्ट आग्रह को पूर्ण करते हुए कुछ दिनों पूर्व नल-दमयंती आख्यान सरलतः अपने ब्लॉग पर प्रकाशित किया। नल और दमयंती की प्रणय-परिणय कथा मुझे भी आकर्षित किए हुए थी, और इसे नाट्य-रुप…