Monthly Archives

October 2015

भोजपुरी, लोक साहित्य, शैलबाला शतक

शैलबाला शतक: भोजपुरी स्तुति काव्य (दस)

शैलबाला शतक  शैलबाला शतक नयनों के नीर से लिखी हुई पाती है। इसकी भाव भूमिका अनमिल है, अनगढ़ है, अप्रत्याशित है। करुणामयी जगत जननी के चरणों में प्रणत निवेदन हैं शैलबाला शतक के यह छन्द! शैलबाला-शतक के प्रारंभिक चौबीस छंद…

भोजपुरी, लोक साहित्य, शैलबाला शतक

शैलबाला शतक: भोजपुरी स्तुति काव्य (नौ)

शैलबाला शतक नयनों के नीर से लिखी हुई पाती है। इसकी भाव भूमिका अनमिल है, अनगढ़ है, अप्रत्याशित है। करुणामयी जगत जननी के चरणों में प्रणत निवेदन हैं शैलबाला शतक के यह छन्द! शैलबाला-शतक के प्रारंभिक चौबीस छंद कवित्त शैली…

Audio, Gitanjali by Tagore, Ramyantar, Tagore's Poetry

अर्चना जी का स्वर : है महाराज प्रार्थना यही (गीतांजलि)

कुछ दिनों पहले गुरुदेव की गीतांजलि के भावानुवाद के क्रम में  उनके गीत “This is my prayer to thee..” का बाबूजी द्वारा किया भावानुवाद ” है महाराज प्रार्थना यही ” इस ब्लॉग पर प्रकाशित हुआ था। इस गीत को अर्चना…