Category

Literary Classics

Article, Contemplation, General Articles, Literary Classics, Ramyantar, चिंतन

’लू शुन’(Lu Xun) ने कहा

“यदि आप एक ही विषय पर काम करते रहें तो अवश्य ही उसके चरम तक जा पहुँचेंगे । इसकी चिंता न करते हुए यदि आप निरंतर उसी विषय से सम्बन्धित नयी–नयी चीजों पर प्रकाश डालते रहें तो लोग समझेंगे कि…

Article, Article on Authors, Contemplation, General Articles, Literary Classics, Ramyantar, चिंतन

सूरज की मृत्यु :एन०वी० कृष्ण वारियर

आज एन०वी० कृष्ण वारियर का जन्मदिवस है। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित एन०वी० कृष्ण वारियर मलयालम साहित्य के बहुप्रतिष्ठित और समादृत कवि-साहित्यकार हैं। हिन्दी में छपे एक साक्षात्कार से इस कवि को पहले पहल जाना, और उसमें छपी इनकी कविताओं…

Article, Article on Authors, Literary Classics, Ramyantar, आलेख

कहानी कैसे बनी (कर्तार सिंह दुग्गल के जन्म दिवस पर)

पिताजी की संग्रहित की हुई अनेकों किताबों में एक है ‘कहानी कैसे बनी’। उसे महीनों पहले पढ़ना शुरु किया था। कुल आठ कहानियों की यह किताब मुझे अविश्वसनीय रचनाधर्मिता का उदाहरण लगी। मैंने इसे पूरा का पूरा पढ़ तो लिया…

Article, Literary Classics, Stories, आलेख

प्रेम का स्वाद तीखा होता है

प्रेम के अनेकानेक चित्र साहित्य में बहुविधि चित्रित हैं। इन चित्रों में सर्वाधिक उल्लेख्य प्रेम की असफलता के चित्र हैं। मनोवैज्ञानिक दृष्टि से प्रेम की असफलता एवं इस असफलता से उत्पन क्रिया-प्रतिक्रया पर काफी विचार किया जा सकता है, पर…

Article on Authors, Literary Classics, Ramyantar

कवि, प्रेमी और पक्षी-विशेषज्ञ

आज सुबह एक कविता पढ़ी – ‘Poet, Lover, Birdwatcher‘। कविता ने बाँध लिया क्योंकि यह कमोबेश उन मान्यताओं या राहों की रूपरेखा तय करती है जिनसे कवि का कर्तव्य या उसका कवित्व उल्लेखनीय बनता है। कवित्व, प्रेम-कर्तव्य और पक्षी-अवलोकन को…

Literary Classics, Ramyantar

रघुवीर सहाय की कविता से सबक लेकर

ठीक ठीक ब्लॉग लिखना शुरू करने के पहले मेरे एक ब्लॉगर मित्र ने मुझे कुछ उलाहने दिए। रघुवीर सहाय की पंक्तियों को उद्धृत कर सारांश दे रहा हूँ – “उसने पहले मेरा हाल पूछा एकाएक विषय बदलकर कहा आजकल का…