Category

Ramyantar

Ramyantar

Covid-19: Talking to Your Children

#Stopthespread of coronavirus or COVID-19 The impact of the new coronavirus disease, COVID-19, is being felt all over the world. With lots of information being rolled out, it’s important to receive and share accurate information, so that you can take…

Ramyantar

When and How to Mask-A Guide: COVID-19

When and How to Mask-A Picture Guide: COVID-19 #stopthespread of Coronavirus or COVID-19 We are better when we work together. These info-graphs or information leaflets are useful to share the right information about how to and when to wear a…

Ramyantar

Prevent the spread of COVID-19: Posters

Prevent the spread of Covid-19: Information Posters #stopthespread with these handy tips. Follow these tips from the World Health Organization to keep yourself safe and help contain the spread of the virus-  Wash your hands with soap and water for…

Ramyantar

Corona Virus or Covid-19

The impact of the new corona virus or COVID-19, is being felt all over the world.  Lots of information are being rolled out. It’s important to receive and share accurate information, so that every citizen might be able to know…

Contemplation, Ramyantar

Diary-डायरी के कुछ पृष्ठ

Diary-डायरी के पन्ने ब्लॉग पर Diary-डायरी लिखने की आदत बचपन से है। नियमित-अनियमित डायरी लिखी जाती रही। यद्यपि इनमें बहुत कुछ व्यक्तिगत है, परन्तु प्रारम्भिक वर्षों की डायरियों के कुछ पन्ने मैंने सहजने के लिए ब्लॉग पर लिख देना श्रेयस्कर…

Poetry, Ramyantar

कविता : आशा

सुहृद! मत देखो- मेरी शिथिल मंद गति, खारा पानी आँखों का मेरे, देखो- अन्तर प्रवहित उद्दाम सिन्धु की धार और हिय-गह्वर का मधु प्यार। मीत! मत उलझो- यह जो उर का पत्र पीत इसमें ही विलसित नव वसंत अभिलषित और…

Capsule Poetry, Ramyantar

कविता: बादल तुम आना

विलस रहा भर व्योम सोम मन तड़प रहा यह देख चांदनी विरह अश्रु छुप जाँय, छुपाना बादल तुम आना ।। 1 ।। झुलस रहा तृण-पात और कुम्हलाया-सा मृदु गात धरा दग्ध, संतप्त हृदय की तृषा बुझाना बादल तुम आना।। 2…

Ramyantar, भोजपुरी, लोक साहित्य, शैलबाला शतक, स्तोत्र

शैलबाला शतक – भोजपुरी स्तुति काव्य : तेरह

शैलबाला शतक के छन्द पराम्बा के चरणों में अर्पित स्तवक हैं। यह छन्द विगलित अन्तर के ऐकान्तिक उच्छ्वास हैं। इनकी भाव भूमिका अनमिल है, अनगढ़ है, अप्रत्याशित है। भोजपुरी भाषा के इच्छुरस का सोंधा पाक हैं यह छन्द। इस रचना…