Tag

बाबूजी

Ramyantar, भोजपुरी, लोक साहित्य

हम तोंहसे कुल बतिया कहली…

समय को रोका नहीं जा सकता। जो है उसका आनन्द से उपयोग करो। बादल को बाँध कर खेती नहीं होती। किस अनुकूल की प्रतीक्षा कर रहे हो। जो मिला वह खूब मिला है। अब नहीं तो कब? इसलिए किसी भी…

Ramyantar, भोजपुरी, लोक साहित्य

टपकि जइहैं हो हमरे आँखी कै लोरवा

टपकि जइहैं हो हमरे आँखी कै लोरवा । जेहि दिन अँगना के तुलसी सुखइहैं  सजनि कै हथवा न मथवा दबइहैं  कवनो सुहागिन कै फुटिहैं सिन्होरवा– टपकि जइहैं हो हमरे आँखी कै लोरवा ॥१॥ जहिया बिछुड़ि जइहैं मितवन के टोली  सुनबै…

Ramyantar, प्रसंगवश

वैवाहिक सप्तपदी (वर-वचन)

पढ़ने के लिए बहुत दिनों से सँजो कर रखी अपने प्रिय चिट्ठों की फीड देखते-देखते वाणी जी की एक प्रविष्टि पर टिप्पणी करने चला । उस प्रविष्टि में वैवाहिक सप्तपदी का उल्लेख था, सरल हिन्दी में उसे प्रस्तुत करने की…

Ramyantar, प्रसंगवश

वैवाहिक सप्तपदी (कन्या-वचन)

आज पढ़ने के लिए बहुत दिनों से सँजो कर रखी अपने प्रिय चिट्ठों की फीड देखते-देखते वाणी जी की एक प्रविष्टि पर टिप्पणी करने चला । उस प्रविष्टि में वैवाहिक सप्तपदी का उल्लेख था, सरल हिन्दी में उसे प्रस्तुत करने…

Ramyantar, भोजपुरी

अर्चना जी ने गाया : सखिया आवा उड़ि चलीं…

मेरी इस प्रविष्टि में मैंने और चारुहासिनी ने एक गीत ’सखिया आवा उडि़ चलीं..’ गाया था ! मेरे और चारुहासिनी द्वारा गाए युगल गीत को अर्चना जी ने अपनी आवाज दी है प्रस्तुत प्रविष्टि में ! गीत उन्हें अच्छा लगा,…

Audio, Ramyantar

हाय दइया करीं का उपाय…

चारु और मैं इधर संवाद-स्वाद, फिर अवसाद के कुछ क्षणों से गुजरते हुए चारुहासिनी की मनुहार से बाबूजी के लिखे कई गीत यूँ ही गुनगुनाता रहा। अपनी सहेलियों को बाबूजी के लिखे गीतों को गा-गाकर सुनाना और फिर अपनी इस…