पढ़ने के लिए बहुत दिनों से सँजो कर रखी अपने प्रिय चिट्ठों की फीड देखते-देखते वाणी जी की एक प्रविष्टि पर टिप्पणी करने चला । उस प्रविष्टि में वैवाहिक सप्तपदी का उल्लेख था, सरल हिन्दी में उसे प्रस्तुत करने की चेष्टा भी । इस वैवाहिक सप्तपदी को हिन्दी-काव्य रूप में सुनने पढ़ने की इच्छा से बाबूजी के पास पहुँचा । बाबूजी ने मेरी प्रार्थना स्वीकार कर इसे हिन्दी काव्य-रूप दिया जो सुनने और समझने की दृष्टि से अत्यन्त सहज और प्रिय लगा  मुझे । इस पूरी वैवाहिक सप्तपदी (वर-कन्या वचन) को आप के समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ । पिछली प्रविष्टि  में कन्या-वचन की प्रस्तुति बाद आज वर-वचन । आभार ।

वर-वचन

हौं गृह-ग्राम रहौं जब लौं तब लौं ही तू साज सिंगार सजौगी ।
भाँतिन-भाँति के हास-विलास कुतूहल क्रीड़ा में राग रचौगी ।
पै न रहूँ घर तो न अभूषण पेन्होगी तूँ परधाम रहोगी ।
प्रानप्रिये ये करो प्रन तूँ हमरी पहली बतिया न तजौगी ॥१॥
श्री हरि विष्णु चतुर्भुज अग्नि औ ब्राह्मण देव की साक्षी गहौगी ।
वान्धव-बंधु जे मंडप राजत औ ध्रुवतारा की ओट लहौगी ।
ये हरि पावक भूसुर बान्धव औ ध्रुव पाँचो की साख रखोगी ।
प्रानप्रिये ये करो प्रन तूँ हमरी दुसरी बतिया न तजौगी ॥२॥
जीवनसंगिनि, तूँ निज चित्त को मेरे हि चित्त में जोरि रखोगी ।
मेरे ही तूँ मन के अनुकूल रहोगी नहीं प्रतिकूल बहोगी ।
टारोगी नाहिं कहा हमरो तुम सुन्दरि मेरी ही बाट गहौगी ।
प्रानप्रिये ये करो प्रन तूँ हमरी तिसरी बतिया न तजौगी ॥३॥
जा बिधि होय हमें परितोष सोई हृदयेश्वरि काज करौगी ।
लीन रहौगी तूँ मेरी ही भक्ति में मेरी ही नित्य तूँ तृप्ति चहौगी ।
आदर में हमरे न कुटुम्बिन की तूँ कबौं कोतहाई करौगी ।
प्रानप्रिये ये करो प्रन तूँ हमरी चौथी बतिया न तजौगी ॥४॥
भामिनि, साँचहि साँच कहौं मोरि बातिन को तूँ सचेत सुनौगी ।
सूनो लगै घरनी के बिना घर शांति वहीं तूँ जहाँ पै रहौगी ।
’पंकिल’ नैनन की पुतरी बिसवास करौ मेरो बाम गहौगी ।
प्रानप्रिये ये करो प्रन तूँ हमरी पचईं बतिया न तजौगी ॥५॥