SHARE

मैं जानता हूँ
तुम्हारे भीतर
कोई ’क्रान्ति’ नहीं पनपती
पर बीज बोना तुम्हारा स्वभाव है।
हाथ में कोई ‘मशाल’ नहीं है तुम्हारे
पर तुम्हारे श्रम-ज्वाल से
भासित है हर दिशा।
मेरे प्यारे ’मज़दूर’!
यह तुम हो
जो धरती की
गहरी जड़ों को
नापते हो अपनी कुदाल से
रखते हो अदम्य साहस,
प्रमाणित नहीं करते हो स्वयं को
फिर भी
होते हो शाश्वत
’ज्योतिर्धर’।

5 COMMENTS

  1. https://bnc.lt/m/GsSRgjmMkt

    निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल।
    बिन निज भाषा-ज्ञान के, मिटत न हिय को सूल।

    बात मात्र लिख भर लेने की नहीं है, बात है हिन्दी की आवाज़ सुनाई पड़ने की ।
    आ गया है #भारतमेंनिर्मित #मूषक – इन्टरनेट पर हिंदी का अपना मंच ।
    कसौटी आपके हिंदी प्रेम की ।
    जुड़ें और सशक्त करें अपनी हिंदी और अपने भारत को ।

    #मूषक – भारत का अपना सोशल नेटवर्क

    जय हिन्द ।

    https://www.mooshak.in/login

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here