Tag

Verse Free

Poetry, Ramyantar

बस में बैठी एक युवती

Woman (Source: in.com) देखा मैंने, चल रही थी ‘बस’। विचार उद्विग्न हो आये विस्तार के लिये संघर्ष कर रहे संकीर्ण जल की भाँति। आगे की दो सीटें सुरक्षित- प्रतिनिधित्व का दिलाने को विश्वास और दशा उस प्रतिनिधि की- अवगुंठित, संकुचित…

Poetry, Ramyantar

कैसे देख पाता?

BEHIND WHICH DOOR, (Photo credit: marc falardeau) गुजरता था मैं जब भी दरवाजे से खुला रहता था वह, खड़ा रहता था कोई मेरी प्रतीक्षा में, दरवाजे के भीतर से एक मुस्कराहट चीरती भीड़ को चली आती थी मेरे पास, मैं…

Poetry, Ramyantar

आपका हँसना

आपके हँसने में छन्द है सुर है राग है, आपका हँसना एक गीत है। आपके हँसने में प्रवाह है विस्तार है शीतलता है, आपका हँसना एक सरिता है। आपके हँसने में शन्ति है श्रद्धा है समर्पण है, आपका हँसना एक…

Love Poems, Poetry, Ramyantar

वह आँसू कह जाते हैं

Source: http://antoniogfernandez.com मेरा प्रेम कुछ बोलना चाहता है । कुछ शब्द भी उठे थे, जिनसे अपने प्रेम की सारी बातें तुमसे कह देने को मन व्याकुल था , पर जबान लड़खडा गयी। अन्दर से आवाज आयी “कोई बाँध सका है…

Poetry, Ramyantar

उसकी याद ही अच्छी

Photo: From Facebook-wall of Pawan Kumar खो ही जाऊं अगर कहीं किसी की याद में तो बुरा क्या है? व्यर्थ ही भटकूंगा- राह में व्यर्थ ही खोजूंगा- अर्थ को व्यर्थ ही रोऊंगा- निराशा के लिये, न पाऊंगा प्रेम, दुलार और…

Poetry, Ramyantar

बात, यदि अधूरी है

बात, यदि अधूरी है तो उसका अर्थ नहीं, यदि संभावनायें हैं तो उसे पूर्ण कर लेना व्यर्थ नहीं। कहा था किसी ने स्वीकार है मुझे भी- “कविता करो न करो कवि बन जाओ” और अपनी इस सहज मनोदशा में उस…

Poetry, Ramyantar

पढ़ा तुम्हारा गीत-पत्र

एक खामोशी-सी दिखी एक इंतिजार भी दिखा अनसुलझी आंखों में बेकली का सिमटा ज्वार भी दिखा, आशाओं के दीप भी जले विश्वास के सतरंगी स्वप्न भी खिले लगा जैसे हर सांस वीणा के सुर में सुर मिलाकर गुनगुना रही हो,…

Poetry, Ramyantar

कितना सिखाओगे मुझे?

चेहरे पर मौन सजा लेते हो क्योंकि बताना चाहते हो मुझे मौन का मर्म, हर पल प्रेम और स्नेह से सहलाते हो मुझे शायद बताना चाहते हो एक स्नेही,एक प्रेमी का कर्म आकंठ डूब जाते हो हास्य में मेरे जैसे…

Love Poems, Poetry, Ramyantar

तुम्हारी प्रेम-पाती के लिए

Photo: Flickr (Credit: JFXie) तुम्हारे लिखने में बड़ा हौसला है। मेरे जीवन के गीत भी तुम्हीं ने लिखे प्रणय के स्वप्न तुमने ही अंकित कर दिए और हृदय के उन तारों को, जो वर्षों से सोये पड़े थे, तुमने ही…

Love Poems, Poetry, Ramyantar

सर्वत्र तुम

Photo: Devian Art(Gigicerisier) मैंने चंद्र को देखा उसकी समस्त किरणों में तुम ही दिखाई पड़े मैंने नदी को देखा उसकी धारा में तुम्हारी ही छवि प्रवाहित हो रही थी मैंने फूल देखा फूल की हर पंखुड़ी पर तुम्हारा ही चेहरा…