Geetanjali: Tagore

He came and sat by my side but I
woke not. What a cursed sleep it was,
O miserable me!

He came when the night was still;he
had his harp in his hands and
my dreams became resonant with its
melodies.

Alas! Why are my sights all thus lost?
Ah, Why do I ever miss his sight
whose breath touches my sleep ?

Hindi Translation: Pankil

वह आया बैठ गया अत्यन्त हमारे पास
गयी हाय निगोड़ी निद्रा मैं हतभाग्य उदास

निशा शांत थी थी उसके करतल में शोभित वीण
सजा हुआ था मधुर गीत का स्वर संधान प्रवीण
वीणराग में राग मिलाया स्वप्नों ने सोल्लास
गयी हाय निगोड़ी निद्रा मैं हतभाग्य उदास ।।

हाय चूक क्यों व्यर्थ हो गयी मेरी सारी रात
चूकचूक जाती क्योंपंकिलउसकी दर्शन बात
छू जाती निद्रा को उसकी हाय निकटतम श्वांश
गयी हाय निगोड़ी निद्रा मैं हतभाग्य उदास ।।