Monthly Archives

February 2009

Capsule Poetry, Poetry, Ramyantar

छोटी सी कविता

विश्वास के घर में अमरुद का एक पेंड़ था एक दिन उस पेंड़ की ऊँची फ़ुनगी पर एक उल्लू बैठा दिखा, माँ ने कहा- ‘उल्लू’ पिता ने कहा- ‘अशुभ, अपशकुन’, फ़िर पेंड़ कट गया। अब, उल्लू तीसरी मंजिल की मुंडेर…

Article, Essays, General Articles, Ramyantar, आलेख

प्रथम-पुरुष की खोज

(Photo credit: Wikipedia) हमारे आर्य-साहित्य का जो ‘प्रथम पुरुष’ है, अंग्रेजी का ‘थर्ड पर्सन’ (Third Person), मैं उसकी तलाश में निकला हूँ। वह परम-पुरुष भी ‘सः’ ही है, ‘अहं’ या ‘त्वं’ नहीं। वर्तमान में देख रहा हूँ, फ़िजा ‘मत’ के…

Poetry, Ramyantar, Songs and Ghazals

अब तो चले जाना है

Marigold (Photo credit: soul-nectar) कहता है विरहित मन, कर ले तू कोटि जतन रुकना अब हाय नहीं, अब तो चले जाना है । छूटेंगे अखिल सरस, सुख के दिन यों पावस हास कहीं रूठेगा, बोलेगा बस-बस-बस दिन में अन्धेरा अब…

Poetry, Ramyantar

बस में बैठी एक युवती

Woman (Source: in.com) देखा मैंने, चल रही थी ‘बस’। विचार उद्विग्न हो आये विस्तार के लिये संघर्ष कर रहे संकीर्ण जल की भाँति। आगे की दो सीटें सुरक्षित- प्रतिनिधित्व का दिलाने को विश्वास और दशा उस प्रतिनिधि की- अवगुंठित, संकुचित…

Ramyantar

कृपया मेरे नये फीड को सबस्क्राइब करिए

‘आशीष जी‘ से पूछकर अपने ब्लॉग ‘नया प्रयत्न‘ को इस ब्लॉग में विलयित कर चुका हूँ । मेरी पोस्ट को फीड से पढ़ने वाले लोगों तक मेरी नयी फीड पहुँची ही नहीं । परिणामतः एक भी कमेन्ट नही आया –…

Poetry, Ramyantar, Songs and Ghazals

मेरी समझ नहीं कि ये कमाल कर सकूँ

हर शख्स अपने साथ मैं खुशहाल कर सकूँ मेरी समझ नहीं कि ये कमाल कर सकूँ। फैली हैं अब समाज में अनगिन बुराइयाँ है लालसा कि बद को मैं बेहाल कर सकूँ। फेकूँ निकाल हिय के अन्धकार द्वेष को कटुता…

Article, Contemplation, Essays, Ramyantar, आलेख, चिंतन

तुम भी उबर गये पथरीली राह से

तुम अब कालेज कभी नहीं आओगे। तुम अब इस सड़क, उस नुक्कड़, वहाँ की दुकान पर भी नहीं दिखोगे। तुम छोड़ कर यह भीड़ कहीं गहरे एकान्त में चले गये हो। पता नहीं वह सुदूर क्षेत्र कैसा है? अन्धकारमय या…

Poetry, Ramyantar

कैसे देख पाता?

BEHIND WHICH DOOR, (Photo credit: marc falardeau) गुजरता था मैं जब भी दरवाजे से खुला रहता था वह, खड़ा रहता था कोई मेरी प्रतीक्षा में, दरवाजे के भीतर से एक मुस्कराहट चीरती भीड़ को चली आती थी मेरे पास, मैं…