Geetanjali: R.N.Tagore

On the day when the lotus bloomed,
Alas,my mind was straying , and I
knew it not . My basket was empty
and the flower remained unheaded.

Only now and again a sadness fell
upon me , and I started up from
my dream and felt a sweet trace of
a strange fragrance in the south wind.

That vague sweetness made my heart-ache
with longing and it seemed to me
that it was the eager – breath of the
summer seeking for its complition .

I knew not then that it was so near,
that it was mine , and that this
perfect sweetness had blossomed in
the depth of my own heart.

Hindi Translation: Pankil

उस समय जब खिला रम्य सरसिज सुमन
हाय मेरा भटकता रहा मंद मन

है खिला पद्म यह ध्यान आया नहीं
शून्य दलीय कमल खोज पाया नहीं
दृष्टि पथ में समाया सरसिज हसन
हाय मेरा भटकता रहा मंद मन

मात्र छाई उदासी कभीं जग गया
चौंक अद्भुत सुमन गंध में रंग गया
जब सुरभि ले बहा मंद दक्षिण पवन
हाय मेरा भटकता रहा मंद मन

भर गयी उर में धुंधली मधुरिमा कसक
यों लगा ले जगा पूर्णता की ललक
ग्रीष्म ऋतु का मनोह समुत्सुक श्वसन
हाय मेरा भटकता रहा मंद मन

जानता था इतनी निकटतम धुरी
यह हमारा ही सौरभ मेरी माधुरी
खिल उठी पूर्णपंकिलह्रदय में गहन
हाय मेरा भटकता रहा मंद मन