तुमने अपने हृदय में love and pit
जो अनन्त वेदना
समो ली है

और उस वेदना को ही
अपनी अमूल्य सम्पत्ति समझ
उसे पोषित करते हो
वस्तुतः
उसी से प्राप्त
प्रेम के अमूल्य कण                                         
मेरे निर्वाह के साधन हैं।

मैं एक मुक्त पक्षी हूं
और वेदना-निःसृत
यही प्रेम के कण चुगता हूं।

photo : www.indiana.edu