सच्चा शरणम्
All rights are reserved @ramyantar.com.

गाने आया जो अनगाया है अब तक वो गीत रे (गीतांजलि का भावानुवाद)

Tagore
Tagore

Geetanjali: R.N. Tagore

The song that I came to sing remains
unsung to this day.


I have spent my days in stringing and
in unstringing my istrument.


The time has not come true, the words have
not been rightly set; only there is the
agony of wishing in my heart.


The blossom has not opened; only the
wind is sighing by.

I have not seen his face, nor have
I listened to his voice; only I have
heard his gentle footsteps from the
road before my house.

The live long day has passed in spreading
his seat on the floor; but the lamp
has not been lit and I can not ask
him into my house.

I live in the hope of meeting with him;
but this meeting is not yet.

Hindi Translation: Pankil

गाने आया जो अनगाया है अब तक वो गीत रे
वीण खोलते कसते वासर गये अमोलक बीत रे।

सही समय आया न बज सके उचित शब्द संभार
इच्छाओं की पीड़ा का ही था उर में अधिकार
अठखेली करता मारुत पर खिले न सुमन सप्रीत रे
वीण खोलते कसते वासर गये अमोलक बीत रे।

देखा बदन न उसका उसके स्वर न सुन सके कान
उसकी पगध्वनि का ही बस कर पायी श्रुति संधान
गृह समीप पथ से निकला जब मंथर गति मनमीत रे
वीण खोलते कसते वासर गये अमोलक बीत रे।

सेज बिछाते बीता वासर जला न पाया दीप
बुला न सका प्राणधन को निज आलय बीच समीप
मिलन-आस में हूँ ’पंकिल’ पर मिला न कभी पुनीत रे
वीण खोलते कसते वासर गये अमोलक बीत रे।

7 comments

  1. बहुत सुन्दर.

    ऐसी हिंदी आज की पीढी नहीं लिखती. शब्दों का आभाव दिखता है. मैं तो स्वयं अकालग्रस्त हूँ टिप्पणी करूँ भी तो कैसे, बस आप अपने पिताजी से मेरा प्रणाम कह दें. उनके आशीर्वाद से ही कुछ ज्ञानवृद्धि होने लगे. – कौतुक

  2. I live in the hope of meeting with him;
    but this meeting is not yet. –“सेज बिछाते बीता वासर जला न पाया दीप
    बुला न सका प्राणधन को निज आलय बीच समीप
    मिलन-आस में हूँ ’पंकिल’ पर मिला न कभी पुनीत रे
    वीण खोलते कसते वासर गये अमोलक बीत रे । ”
    अनुवाद मूल से कहीं ज्यादा सुन्दर लग रहा है !

  3. अहा, अभी सुनकर आ रहा हूँ अर्चनाजी के ब्लॉग पर, मन बह गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *