आजकल एक किताब पढ़ रहा हूँ – ’आचार्य क्षेमेन्द्र की औचित्य-दृष्टि’ । किताब बहुत पुरानी है – आवरण के पृष्ठ भी नहीं हैं, इसलिये लेखक का नाम न बता सकूँगा । इस पुस्तक में लेखक की भाषा और शैली के चमत्कार से हतप्रभ हूँ – प्रस्तुति विलक्षण है । पूरा पढ़ सकने के बाद इसके आश्रय से कुछ ब्लॉग-प्रविष्टियाँ लिखने की तीव्र इच्छा हो रही है । फिलहाल पुस्तक के परिशिष्ट से एक टिप्पणी लिख रहा हूँ –
 मन की शान्ति व्रत साधना से सिद्ध नहीं हुआ करती; एक शान्त मन ही, उलटे, स्वभावतः – गृहे-वाSरण्ये वा – व्रती होता है – इन दो बोध-कथा-सूत्रों से तुलनीय –

1)
एक भले आदमी ने दुनिया के प्रलोभनों से मुक्ति पाने के लिये वानप्रस्थ ले लिया ।

रात होती और एक कुहुमुखी आकर अपना राग छेड़ देती ।
साधु जी ने युक्ति सोच ली । कोयल आत्मविस्मृति में, अगले दिन, अपना सर्वस्व उड़ेल रही थी – जंगल में मंगल ला रही थी, कि योगी जी ने फूस की कुटिया को, बाहर से, बन्द कर दिया और आग लगा दी !
लोगों ने आकर पूछा – “क्या हुआ? यह आग कौन पापी लगा गया?”
“मैंने लगायी थी; और किसने ? कुटिया गयी तो क्या हुआ; कोयल का तो कक्ख न रहा । मैं खुश हूँ ।”
2)
बहावलपुर में एक पीर रहा करते थे । मुसलमान थे । एक हिन्दू व्यापारी तीर्थ, व्यापार के लिये बाहर जाते हुए पीर साहब से आशीर्वाद लेने आया और अपना घर उन्हीं के सुपुर्द करता गया ।
इस अर्से में पीर साहब खुद, दिन में एक बार, उसके घर जाते और जो काम शहर का होता, सती के लिये, कर आते; किसी चेले से उन्होंने कुछ नहीं करवाया ।
महीनों बाद जब यह भक्त व्यापारी घर लौट रहा था, वह दूर से क्या देखता है – कि पीर साहब के कंधे पर एक पुराना चर्खा है और वो बन्द दर पर, बाहर, चुप इंतजार में खड़े हैं । उसका सिर श्रद्धा से झुक गया ।
कुछ महीने और बीत गये । व्यापारी, एक नया मकान बनवाकर, गृह-प्रवेश के लिये फिर उसी विभूति के क़दमों में हाज़िर हुआ । पीर साहब अपने सारे ’कुल’ समेत पहुँचे । बतासे बाँटे गये । एक बतासा पीर साहब ने भी थाली से उठा लिया; उसी वक्त एक मुहम्मदी ने अदब से जताया – ” पीर साहब, आज तो रमजान है; आप का रोजा है । -;”
– “रोजा तोड़ा जा सकता है, एक प्यारे का दिल नहीं” और पीर साहब ने बतासा मुँह में डाल दिया ।
संदर्भ तो यही था : –
अत्र वल्कलजुषः पलाशिनः पुष्परेणु(भर)भस्म-भूषिताः ।
(लोल) भृंगवलया-Sक्षमालिकास् तापसा इव विभान्ति पादपाः ॥”
[ये वल्कल, यह भस-सी पुष्परज, ये मंडराते भ्रमर :
— स्वयं शान्त-पूत मन को अचेतन पलाशों में भी व्रतोचित तपस्विता तथा अन्तःशुचिता ही गोचर होती है ।]