Monthly Archives

November 2009

Ramyantar

मैं तो निकल पड़ा हूँ…..

मैं तो निकल पड़ा हूँ सुन्न एकांत-से मन के साथ जो प्रारब्ध के वातायनों से झाँक-झाँक मान-अपमान, ठाँव-कुठाँव, प्राप्ति-अप्राप्ति से आविष्ट जीवन को निरखता है … निकला तो अबेर से हूँ क्योंकि मन के उद्वेग के साथ अनुभव का ऊहापोह…

Hindi Ghazal, Ramyantar, Songs and Ghazals

जिन्दगी ज़हीन हो गयी..

जिन्दगी ज़हीन हो गयी मृत्यु अर्थहीन हो गयी । रूप बिंध गया अरूप-सा सृष्टि दृश्यहीन हो गयी । भाव का अभाव घुल गया भावना तल्लीन हो गयी । टूट गयी सहज बाँसुरी व्यथा तलफत मीन हो गयी । बाँध लूँ…