इस कहानी ने भीतर तक प्रभावित किया मुझे, बहुत कुछ बदल भी दिया इसने मेरे जीवन में- जीवन शैली ही नहीं विचार भी बदले, और भाव/भावना का तो रुपांतरण ही हो गया । कहानी आपके सम्मुख है ।

एक संध्या किसी नगर से एक अर्थी निकलती थी । बहुत लोग उस अर्थी के साथ थे । और कोई राजा नहीं, बस एक भिखारी मर गया था ।जिसके पास कुछ भी नहीं था, उसकी विदा में इतने लोगों को देख सभी आश्चर्यचकित थे । एक बड़े भवन की नौकरानी ने अपनी मालकिन को जाकर कहा कि किसी भिखारी की मृत्यु हो गयी है और वह स्वर्ग गया है । मालकिन को मृतक के स्वर्ग जाने की इस अधिकारपूर्ण घोषणा पर हँसी आयी और उसने पूछा ,

“क्या तुमने उसे स्वर्ग में प्रवेश पाते देखा है ?”

वह नौकरानी बोली,

“निश्चय ही मालकिन । यह अनुमान तो बिलकुल सहज है, क्योंकि जितने भी लोग उस अर्थी के साथ थे वे सभी फूट-फूटकर रो रहे थे । क्या यह तय नहीं है कि मृतक जिनके बीच था, उन सब पर ही अपने प्रेम के चिह्न छोड़ गया है ?”

ओशोकी एक पुस्तक से साभार